सच्चा नाम ही हमारे मन को निर्मल, पवित्र और पाक कर सकता है।

बाबाजी फ़रमाते है कि जिस समय हमारे हृदय में नाम प्रकट हो जाता है, हमारे सब कर्मों का सिलसिला खत्म

Read more