मुक्ति के लिए भजन सुमिरन ही दवाई। पढ़ें

सूरमा वही है, मन और इंद्रियां जिसके वश में है। क्योंकि अंदर तरक्की उसी मात्रा में होगी जिस मात्रा में

Read more